जिले के शिक्षक शिक्षकों ने काली पट्टी बांधकर स्कूलों में किया शिक्षण कार्य

बुलंदशहर : अनेक विभागों में ऑनलाइन उपस्थिति दर्ज करने की व्यवस्था की गई है जिसमें शिक्षा विभाग भी शामिल है। परंतु शिक्षक शिक्षिकाओं ने ऑनलाइन उपस्थिति दर्ज करने में आपत्ति की जा रही। क्योंकि उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा शिक्षक संगठनों से बिना वार्ता किया यह आदेश जारी किया गया जिससे अनेक समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। शिक्षक शिक्षकों पर अनेक प्रकार की बंदिश लगाने की तैयारी की जा रही। जिसको लेकर उत्तर प्रदेश से प्राथमिक शिक्षक संगठन विरोध प्रदर्शन करते हुए आज दूसरे दिन भी स्कूलों में काली पट्टी बांधकर शिक्षण कार्य किया एवं अपनी ऑनलाइन उपस्थिति दर्ज करने का विरोध किया। जिसमें ये विरोध प्रदर्शन,तब तक जारी रहेगा। जब तक हमारी लंबित मांगों को पूरा नहीं किया जाता है। उत्तर प्रदेशीय प्राथमिक शिक्षक संघ (सवंद्ध अखिल भारतीय प्राथमिक शिक्षक संघ) के प्रांतीय नेतृत्व प्रदेश अध्यक्ष सुशील पांडेय के आवाहन पर जनपद बुलंदशहर में आज दूसरे दिन जनपद के सभी शिक्षकों ने ऑनलाइन उपस्थिति का बॉयकॉट किया तथा अपने हाथों पर काली पट्टी बांधकर शिक्षण कार्य किया। प्रांतीय उपाध्यक्ष सुरेंद्र यादव और जिला अध्यक्ष देवेंद्र शर्मा ने कहा कि जब तक वर्ष में 30 ई0एल0,हाफ सी0एल0,प्रत्येक माह के दूसरे शनिवार को अवकाश सहित अन्य लंबित मांगों को पूरा नहीं किया जाएगा। तब तक काली पट्टी बांधकर ऑनलाइन हाजिरी तथा पंजिकाओं के डिजिलाईजेशन का विरोध जारी रहेगा।जिला मंत्री अरुण राठी और जिला कोषाध्यक्ष कौशल किशोर ने कहा कि ये लड़ाई आर पार की है। मनमानी,तानाशाही नहीं चलेगी। हमारी भी मानो और आपकी भी मानेंगे। अपनी मांगों के समर्थन में 11 जुलाई को जनपद मुख्यालय बुलंदशहर पर एकत्र होकर जिला अधिकारी के माध्यम से मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश सरकार को संबोधित ज्ञापन प्रेषित किया जाएगा। विरोध दर्ज करने में अनिता त्यागी निर्भय नन्द शर्मा राजीव मोहन शर्मा पंकज गुप्ता लोकेंद्र कुमार रविराज राजेंद्र सिंह सत्यवीर अशोक यादव अजीत कुमार दिनेश कुमार अंकुर सिरोही विनोद बालियान आदि।

Spread the love