बुलंदशहर : आज विश्व के सबसे बड़े संगठन अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के जिला संगठन मंत्री रहे एवं सेवानिवृत्त पटवारी एवं वर्तमान में प्रदेश उपाध्यक्ष संत श्री गुरु रविदास विश्व महापित द्वारा अवगत कराया गया किआज मेरे लिए बड़े हर्ष का विषय ही नहीं बल्कि गर्व का दिन है क्योंकि आज ही के दिन दिनांक 9 जुलाई 1949 को अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद का स्थापना दिवस है अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के स्थापना दिवस की शुभ अवसर पर उनके द्वारासमस्त विद्यार्थियों को ढेर सारी बधाई एवं शुभकामनाएं प्रस्तुत की हैं जो छात्र शक्ति राष्ट्र शक्ति है तथा विश्व का सबसे बड़ा संगठन है ज्ञान शील एकता विद्यार्थी परिषद की विशेषता है राजवीर सिंह के द्वारा बताया गया कियह विद्यार्थी परिषद का मुख्य नारा है अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद की स्थापना संघ के कार्यकर्ता श्री बलराज मधोक जी की अगुवाई में की गई थी तथा मुंबई के प्रोफेसर यशवंत केलकर जी इसके मुख्य कार्यवाहक अध्यक्ष बने थे विद्यार्थी परिषद की पूर्व प्रचारक राजवीर सिंह के द्वारा अवगत कराया गया कि राष्ट्र शक्ति का मैं सक्रिय कार्यकर्ता के रूप में दिसंबर 1981 शिव चरण इंटर कॉलेज बुलंदशहर में विद्यार्थी परिषद द्वारा मालवीय पुस्तक निधि का संचालन किया जाता था जिसकी जिम्मेदारी कार्यालय पर रहकर मेरी थी उक्त के संबंध में एक कार्यक्रम का आयोजन शिव चरण इंटर कॉलेज में नगर अध्यक्ष श्री राजेंद्र प्रसाद शर्मा जी तथा राष्ट्रीय संगठन मंत्री माननीय मदन दास जी की जी मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित रहे थे उक्त कार्यक्रम का संचालन राजवीर सिंह के द्वारा किया गया थाकार्यक्रम का सफल संचालन करते हुए यहां से विद्यार्थी जीवन में ही विद्यार्थियों की समस्याओं को लेकर विद्यार्थी राजनीति की मेरी प्रथम शुरुआत कर राजनीति में प्रवेश किया था राजवीर सिंह के द्वारा अपने उधर प्रकट करते हुए कहा किअखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद में डीएवी डिग्री कॉलेज बुलंदशहर के प्रोफेसर डॉक्टर महेश चंद्र गुप्ता जी के द्वारा मुझे इस विश्व स्तर के बड़े छात्र संगठन में प्रवेश कराया था तथा बुलंदशहर में संगठन को खड़ा करने में अहम भूमिका निभाई थी एक धर्मशाला में कार्यालय की स्थापना की गई थी तथा राजवीर सिंह द्वारा कार्यालय पर रहकर पूर्णकालिक कार्यकर्ता के रूप में कार्य करना प्रारंभ किया था तथा जिला संगठन मंत्री रहा था तथा यशस्वी सांसद एवं बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री आदरणीय श्री सुशील मोदी जी के नेतृत्व में भी काम करने का अवसर प्राप्त हुआ था हाथरस निवासी विद्यार्थी परिषद के स्तंभ रहे श्री राधे श्याम जी के मार्गदर्शन में विद्यार्थियों की सेवा करने का शुभ अवसर प्राप्त हुआ था अलीगढ़ के पूर्व विधायक स्वर्गीय श्री संजीव राजा जी के साथ साथ प्रदेश में विद्यार्थियों की समस्याओं को लेकर धरण धरना प्रदर्शन कर लाठी-डंडे खाए थे मेरी राजनीतिक जीवन की शुरुआत अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से ही हुई थी तथा राजवीर सिंह पूर्व जिला संगठन मंत्री अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद द्वारा बड़े गर्व से कहा किमै जो भी कुछ आज मैं हूं वह सब विद्यार्थी परिषद के कारण हूं क्योंकि भाषण देना नारे लगाना अनुशासित रहना यह सब मेरे अंदर विद्यार्थी परिषद की प्रेरणा के कारण है सन 1981 से लेकर 1991 तक जनपद बुलंदशहर में अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद में जिला संगठन मंत्री रहते हुए विद्यार्थी परिषद कार्यालय पर ही मेरा निवास स्थान रहा था कार्यक्रम के समापन के शुभ अवसर पर राजवीर सिंह के द्वारा कहा कि युवाओं में राष्ट्रीयता का संचार करने वाले एवं राष्ट्र सेवा में समर्पित विश्व के सबसे बड़े छात्र संगठन अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के 76 वे स्थापना दिवस की सभी विद्यार्थियों युवाओं को हृदय तल गहराई से अनंत अनंत हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं प्रस्तुत करता हूं

Spread the love